Wednesday, April 24, 2024
HomeInformationलिमिटेड और प्राइवेट लिमिटेड कंपनी: क्या अंतर है?

लिमिटेड और प्राइवेट लिमिटेड कंपनी: क्या अंतर है?

परिचय

भारत में, लिमिटेड और प्राइवेट लिमिटेड कंपनी दोनों ही कानूनी रूप से मान्यता प्राप्त कंपनियों के दो रूप हैं। दोनों प्रकार की कंपनियों के अपने-अपने फायदे और नुकसान हैं, और कौन सा रूप आपके लिए सही है यह आपकी विशिष्ट व्यावसायिक आवश्यकताओं पर निर्भर करेगा।

लिमिटेड कंपनी

लिमिटेड कंपनी एक कानूनी इकाई है जिसमें शेयरधारक होते हैं जो कंपनी के मालिक होते हैं। लिमिटेड कंपनियों को आमतौर पर “लिमिटेड” या “लिमिटेड” के रूप में संक्षिप्त किया जाता है।

लिमिटेड कंपनियों के पास निम्नलिखित विशेषताएं हैं:

  • मालिकों की सीमित देयता: लिमिटेड कंपनियों के शेयरधारकों की देयता कंपनी की संपत्ति तक ही सीमित है। इसका मतलब है कि यदि कंपनी दिवालिया हो जाती है, तो शेयरधारकों को अपनी व्यक्तिगत संपत्ति से कंपनी के ऋणों का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है।
  • सार्वजनिक रूप से कारोबार करने की क्षमता: लिमिटेड कंपनियां सार्वजनिक रूप से कारोबार कर सकती हैं, जिसका अर्थ है कि उनके शेयर आम जनता को बेचे जा सकते हैं।
  • उच्च पूंजी जुटाने की क्षमता: लिमिटेड कंपनियां सार्वजनिक रूप से कारोबार करके बड़ी मात्रा में पूंजी जुटा सकती हैं।

प्राइवेट लिमिटेड कंपनी

प्राइवेट लिमिटेड कंपनी एक प्रकार की लिमिटेड कंपनी है जो सार्वजनिक रूप से कारोबार करने के लिए योग्य नहीं है। प्राइवेट लिमिटेड कंपनियों को आमतौर पर “प्राइवेट लिमिटेड” या “प्राइवेट लिमिटेड” के रूप में संक्षिप्त किया जाता है।

प्राइवेट लिमिटेड कंपनियों के पास निम्नलिखित विशेषताएं हैं:

  • मालिकों की सीमित देयता: प्राइवेट लिमिटेड कंपनियों के शेयरधारकों की देयता कंपनी की संपत्ति तक ही सीमित है।
  • सार्वजनिक रूप से कारोबार करने की अक्षमता: प्राइवेट लिमिटेड कंपनियां सार्वजनिक रूप से कारोबार करने के लिए योग्य नहीं हैं।
  • कम पूंजी जुटाने की क्षमता: प्राइवेट लिमिटेड कंपनियां सार्वजनिक रूप से कारोबार करने में सक्षम नहीं हैं, इसलिए वे आमतौर पर लिमिटेड कंपनियों की तुलना में कम पूंजी जुटा सकती हैं।

लिमिटेड और प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के बीच मुख्य अंतर

लिमिटेड और प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के बीच मुख्य अंतर निम्नलिखित हैं:

विशेषतालिमिटेड कंपनीप्राइवेट लिमिटेड कंपनी
मालिकों की संख्यान्यूनतम 2न्यूनतम 2
सार्वजनिक रूप से कारोबार करने की क्षमताहाँनहीं
पूंजी जुटाने की क्षमताअधिककम
नियमनअधिककम

कौन सा रूप सही है?

लिमिटेड और प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के बीच का सही विकल्प आपकी विशिष्ट व्यावसायिक आवश्यकताओं पर निर्भर करेगा। यदि आप एक ऐसी कंपनी शुरू करना चाहते हैं जो सार्वजनिक रूप से कारोबार कर सके और बड़ी मात्रा में पूंजी जुटा सके, तो लिमिटेड कंपनी एक अच्छा विकल्प हो सकता है। यदि आप एक छोटी या मध्यम आकार की कंपनी शुरू करना चाहते हैं जो सार्वजनिक रूप से कारोबार करने की योजना नहीं है, तो प्राइवेट लिमिटेड कंपनी एक अच्छा विकल्प हो सकता है।

लिमिटेड कंपनी के लिए कुछ विशिष्ट लाभ

लिमिटेड कंपनियों के लिए कुछ विशिष्ट लाभ निम्नलिखित हैं:

  • मालिकों की सीमित देयता: लिमिटेड कंपनियों के शेयरधारकों की देयता कंपनी की संपत्ति तक ही सीमित है। इसका मतलब है कि यदि कंपनी दिवालिया हो जाती है, तो शेयरधारकों को अपनी व्यक्तिगत संपत्ति से कंपनी के ऋणों का भुगतान करने की आवश्यकता नहीं है। यह एक महत्वपूर्ण लाभ है जो व्यवसायियों
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular